Is it possible to make money while practicing selfless Actions?

Is it possible to make money while practicing selfless Actions?

 

While researching upon Sloka no. 3 of Chapter 6 one question kept suspended before my mind and that was… ‘Is it possible to make money while practicing selfless Actions’ (Nishkam Karma)? And all through I kept going deeper to understand the possibility of moving and progressing in two worlds while living the same one single life. Spiritual evolution for any soul is the singular charter for its manifestation on this physical plane; undoubtedly. But spiritual evolution does not happen by itself through any magic wand… on the contrary one has to traverse through countless adversarial experiences and confrontations that suck all within a human. Under such rioting and conflicting experiences for one life after another, how is it possible to float upon an uphill terrain devoid of any thrust machine or wings affixed at ones back?

This question remained a suspended hook, afloat atop my eyes during the entire research upon the verse no. 3, that talks about Selfless acts as the only basic scheme, for all and any furtherance towards the journey of a seeker towards spiritual evolution. And the resolution was self evident.

Two words in this verse are very important since they rule entire verse as the first words of each line. And their supremacy is there, not only for being first in their respective lines… they are supreme for they unravel the purpose the sloka. The first word is “Aruruksho” (One aspirant of) and the second word is “Yogarudhasya” (One who has attuned to Yoga). The words are embroidered in the sloka in a manner to convey a simple pronouncement and that is...
Those who are aspirant of ascension in Yoga, selfless action (referred as Karma) are known as the only way.
Those that have attuned to Yoga absolute control within are known as the only way.

By the time we have reached chapter-6 so much of reiteration has been observed under Gita that the usage of few ordinary words now carry a heavy meaning. For e.g. the word Karma literally means ‘action’ but its continuous usage in the light of Karma yoga here merely means Selfless acts.

Now let us solve the riddle of a modern mind under the light of 3rd Sloka of 6th Chapter that was mentioned in beginning of this note.
1. Is it possible to make money while practicing selfless Actions (Nishkam Karma)?
2. Is there any possibility of moving and progressing in two worlds while living the same one single life?

According to the 1st Sloka of Chapter 6, unless you perform your mandatory obligations in life one cannot ever become a Sanyasi or a Yogi. And mandatory obligations are inclusive of supporting ones family, in accordance with the standards of living, practiced wisely and widely by others around in the light of one’s bracket of earnings. Simplify the aforesaid line and understand it once again like this...

Your Annual earning package is Rs.30 lakh and you live amongst a community that enjoys a similar contour of annual earnings. And there exists a wise standard of living for all those earning around the same bracket of remuneration… hence it is your mandatory obligation to see and ensure that your family is able to support the minimum standard of living in accordance with the surround, where they are pitched at this moment in their lives. The word minimum standard of living in the previous line should be clearly understood as a wisely ascertained standard of living that blends your way of life in the community of your surround. Your moderation in that surround in no way should be stretched beyond and towards extremism. The same example could be observed in the capacity of different profession like self employed, trader, small or medium industry owner etc.

Why did I undertake the aforesaid conflict into this interpretation?

I undertook this conflict under the interpretation of this sloka for two major reasons. Namely, there are seekers seeking inner growth… and while understanding scriptures at times they turn too dry to accommodate their mandatory obligations into the ambit of austerity. They become a minimalist at their own personal end and at the same time they enforce their minimalistic approach (practices) upon others that have to be supported by them (their family) as their mandatory obligation. Such observances create lot of conflict and unease around them. Those being supported by them may not be potent enough to find their own way/raise their effective voices but their suppression or confrontation with enforced austerity creates disharmony that hinders the pursuit of the one that was actually an aspirant of inner growth. For them it should be deeply understood that any austerity or minimalism has to be only practiced in dignified manner by the one or confined to the oneself that has developed a deep inclination towards inner growth and in no way it should be enforced upon others that are yet not prepared for a plunge into the sphere of spiritual ascension.

Second category of seekers belong to a thought that conveys within themselves… that since they have now progressed towards spiritual growth thereby anything and everything rest/apart is for the material plane henceforth they are now not bound by any obligation/duty and therefore they should become inactive within and without. These people should remember under the light of the 1st verse of the 6th Chapter that Karma Yoga or Yoga is about non indulgence and not about inaction. A yogi in fact becomes super active and involved at higher states of evolution. A yogi is able to gather a state where ordinary material/sensorial binding do not obstruct the endeavors under its noble intent. Renunciation is an inner disassociation… it is an inner state grounded in response to expectancies. Renunciation is not about relinquishing or running away from mandatory dispensations. Therefore external distancing does no good to those who are actually supposed to master inward.

The claimant for ascension into inner spiritual growth or the “Aruruksho” cannot qualify the entrance examination that leads to the admission into classroom of understandings that open a new window towards the higher self… unless that claimant is successfully able to ascertain/perform and prove its eligibility in the form of a Total Compliant for all necessary duties prescribed for it (the aspirant).

An interesting word deliberately inserted by the one that envisioned Gita (Muni Ved Vyasa under divine intuitions of Krishna) in the first line of Sloka no. 3 is “Mune”. This word draws few literal meanings like, the one that is thoughtful, the one that is inward, the one that is illuminated with spiritual insight. And under these notes I have referred “Mune” or Muni as “The claimant”. The claimant who truly understands the reasonableness of his/her claims. The foremost fulfillment for a claimant towards spiritual ascension is accomplishment of all prescribed mandatory obligations without indulgence. Now those mandatory obligations include with profit or not for profit activities. Before we move onwards towards the 2nd line of the Sloka 3 Let me assert that all not for profit acts that are performed without humble submission towards service… and are merely demonstrated externally as acts of service/compassion or benevolence are deeds that bind.

Whereas all acts that are performed for profit and executed with highest concern towards integrity upon promises made to the basic objective of the act are considered as evolutional acts. If we understand and practice these words we become sages on board irrespective of the garb/attire.

After having understood the validity of making profits or earning money, Now we have to understand the possibility of earning profits while acting under the discipline of Selfless acts (Nishkam Karma). E.g. Padman etc.

   Copy article link to Share   


Other Articles / अन्य लेख

  • पवित्रता
    27/05/2021

    पवित्रता

    Read More

  • नोट्स प्राप्ति हेतु केवल मॉनिटरिंग कार्यक्रम से जुड़े साधक अपना ईमेल प्रदान करें
    07/01/2021

    नोट्स प्राप्ति हेतु केवल मॉनिटरिंग कार्यक्रम से जुड़े साधक अपना ईमेल प्रदान करें

    Read More

  • आत्म विश्वास बिना जीवन अधूरा - एक विशेष श्रृंखला आरम्भ हो चुकि
    16/12/2020

    आत्म विश्वास बिना जीवन अधूरा - एक विशेष श्रृंखला आरम्भ हो चुकि

    ध्यान रहे की यह आत्म विश्वास श्रृंख्ला केवल मात्र प्रेरक नहीं अपितु उन प्रभावशाली सुलभ विधियों को बताएगी जिससे आत्म विश्वास विकसित किया जा सके।  

    Read More

  • अनुशासनहीन खपता और केवल भटकता 
    09/12/2020

    अनुशासनहीन खपता और केवल भटकता 

     

    Read More

  • ब्रह्मानन्दम परमसुखदं 
    08/12/2020

    ब्रह्मानन्दम परमसुखदं 

     

    Read More

  • ब्रह्म ऋषि स्वयं सम्पर्क करते - पात्रता विकसित करो
    30/10/2020

    ब्रह्म ऋषि स्वयं सम्पर्क करते - पात्रता विकसित करो

    आध्यात्मिक प्रकाश में पात्रता शब्द के बहु आयामी मर्म अर्थात प्रभाव निकलते हैं।  पात्रता अर्थात अधिक अंशों में बोध की क्षमता।  We become more capacitated,  पात्रता अर्थात elligibility.  पात्रता का तात्पर्य है अंतःकरण में बोध (Deeper understanding) को जागृत करना। पात्रता का अर्थ है सूक्ष्म शरीर के अवयवों को जागृत करना।

    Read More

  • कौन किसको भजता है ? सतोगुणी, रजोगुणी, तमोगुणी
    29/10/2020

    कौन किसको भजता है ? सतोगुणी, रजोगुणी, तमोगुणी

    पूजा का यह विषय है कि कौन - कौन किसको पूजता है और तदनरुप  रूप क्या परिणाम प्राप्त करता है। इसमें हमे सूक्षमता के साथ श्रीमद्भगवद्गीता के प्रकाश के विस्तार समझना होगा। ब्रह्म ऋषि कहते हैं कि सतोगुणी  देव शक्तियों का आवाहन और उनका पूजन इत्यादि करते हैं,

    Read More

  • पिछला जन्म कैसा था ?अगला जन्म कैसा होगा ? श्रद्धा से पूछो 
    28/10/2020

    पिछला जन्म कैसा था ?अगला जन्म कैसा होगा ? श्रद्धा से पूछो 

    श्रद्धा का विषय  उत्कृष्टता के प्रति बिना शर्त का प्रेम है, इसे विश्वास के साथ भी जोड़ते हैं। विश्वास श्रद्धा का अनुसरण करता है आस्था बनने के लिए अर्थात गहरा विश्वास बनने हेतु। किसी जीव की श्रद्धा क्या है, वह किसे उत्कृष्ट मानता है, यह निर्णय जीव का व्यक्तिगत है।  जिन विषयों को जीव उत्कृष्ट मानता है वह उसकी प्राथमिकताओं के  विषय होते हैं। वास्तविकता यही है की अपनी प्राथमिकताओं के द्वारा ही संचालित जीव है, यह मनुष्य।

    Read More

  • नवरात्री नवमी माँ सिद्धिदात्री
    24/10/2020

    नवरात्री नवमी माँ सिद्धिदात्री

    नवरात्री नवमी माँ सिद्धिदात्री 

    Read More

  • नवरात्री अष्टमी दिवस माँ महागौरी
    23/10/2020

    नवरात्री अष्टमी दिवस माँ महागौरी

    नवरात्री अष्टमी दिवस माँ महागौरी

    Read More

  • नवरात्री सप्तमी दिवस ‘माँ कालरात्रि’
    22/10/2020

    नवरात्री सप्तमी दिवस ‘माँ कालरात्रि’

    नवरात्री सप्तमी दिवस ‘माँ कालरात्रि’ 

    Read More

  • महत्वपूर्ण जानकारी
    22/10/2020

    महत्वपूर्ण जानकारी

    Read More

  • नवरात्रि छटा दिवस माँ ‘कात्यायनी’
    21/10/2020

    नवरात्रि छटा दिवस माँ ‘कात्यायनी’

    नवरात्रि छटा दिवस माँ ‘कात्यायनी’

    Read More

  • नवरात्री पर्व पञ्चमी - देवी ‘स्कन्दमाता’
    20/10/2020

    नवरात्री पर्व पञ्चमी - देवी ‘स्कन्दमाता’

    नवरात्री पर्व पञ्चमी - देवी ‘स्कन्दमाता’


    Read More

  • नवरात्रि चतुर्थ दिवस माँ कूष्माण्डा
    19/10/2020

    नवरात्रि चतुर्थ दिवस माँ कूष्माण्डा

    नवरात्रि चतुर्थ दिवस माँ कूष्माण्डा 

    Read More

  • नवरात्री तृतीय दिवस “माँ चन्द्रघण्टा” (चण्डिका)
    18/10/2020

    नवरात्री तृतीय दिवस “माँ चन्द्रघण्टा” (चण्डिका)

    नवरात्री तृतीय दिवस “माँ चन्द्रघण्टा” (चण्डिका)

    Read More

  • नवरात्री का द्वितीय दिवस ब्रह्मचारिणी  देवी
    17/10/2020

    नवरात्री का द्वितीय दिवस ब्रह्मचारिणी देवी

    नवरात्री का द्वितीय दिवस ब्रह्मचारिणी  देवी

    Read More

  • नवरात्री का प्रथम दिवस "शैलपुत्री"
    16/10/2020

    नवरात्री का प्रथम दिवस "शैलपुत्री"

    नवरात्री का प्रथम दिवस शैलपुत्री देवी की स्तुति हेतु ज्ञानियों ने रचा है। 

    Read More

  • अगली माँ की कोख जीव इसी जन्म में स्वयं सुनिश्चित करता है।
    13/10/2020

    अगली माँ की कोख जीव इसी जन्म में स्वयं सुनिश्चित करता है।

    ब्रह्मर्षि कहते हैं मनुष्य सतोगुण की अभिवृद्धि में ही रहते हुए जब मृत्यु को प्राप्त होता है (मृत्यु = मृ + अत्यु , मृ कहते हैं मिट्टी को और अत्यु कहते हैं छलांग लगाने को) मृत्यु शब्द बहुत बड़ा शब्द है। मृत्यु शब्द केवल शारीरिक स्तर पर ही प्रयोग किया जाए, यूं तो इस शब्द के साथ अन्याय हैं।

    Read More

  • रजोगुण और तमोगुण मुझमें आज ही समाप्त तो - जानो
    12/10/2020

    रजोगुण और तमोगुण मुझमें आज ही समाप्त तो - जानो

    त्रिगुणात्मक प्रकृति का विषय लिखने में कितना सरल है। मनुष्य की प्रकृति को केवल तीन ही तो गुणों में बांट दिया गया।  किसी भी विज्ञान की अगर पराकाष्ठा के विषय पर जानना हो तो उसका सिद्धांत एक ही है, कि वह कितने सरल और सहज स्वरूप में जन सामान्य के समक्ष उपस्थित हो गया।

    Read More

  • जिनमें अब White बढ़ने लगा और Red & Black ढीला पड़ा;
    11/10/2020

    जिनमें अब White बढ़ने लगा और Red & Black ढीला पड़ा;

    ब्रह्मर्षि आदि गुरु मुनि वेदव्यास कहते हैं कि मनुष्य में जब सतोगुण की वृद्धि होती है, अर्थात जैसे-जैसे साधक की वृत्तियाँ - उसका अन्तःकरण प्रकाशित होता जाता है और आत्म परिष्कार के द्वारा उसके भीतर के विकार समाप्त होते जाते हैं।  साधक भीतर पूर्व की अपेक्षा अधिक पवित्र और निर्मल होना आरंभ हो जाता है और उसे अपने अनुभव में अर्थात ऐसा साधक की अपनी समूची इंद्रियों की चाहत में एक भिन्नता दिखनी आरंभ हो जाती है।

    Read More

  • मैं कहता हूँ ध्यान में नींद आए तो मुक्त हो कर सो जाओ
    09/10/2020

    मैं कहता हूँ ध्यान में नींद आए तो मुक्त हो कर सो जाओ

    साधक एक भ्रम दूर करना आवश्यक है।   शास्त्र कहता है की तमोगुण से प्रभावित व्यक्ति प्रमाद, आलस्य और निद्रा के वशीभूत होता है।  पुनः जानो की तमोगुण में ग्रसा हुआ जीव प्रमाद, आलस्य और निद्रा में पूरी तरह जकड़ा हुआ होता है अर्थात इन तीनों में फंसा होता है. पर इस  अकाट्य सत्य के साथ एक भ्रम भी है, जिसे स्पष्ट करना बड़ा आवश्यक और नितांत आवश्यक है।

    Read More

  • आध्यात्मिक सफलता चाहने वालो, कुछ रजोगुण मुट्ठी में संभाल कर रक्खो
    08/10/2020

    आध्यात्मिक सफलता चाहने वालो, कुछ रजोगुण मुट्ठी में संभाल कर रक्खो

    अध्यात्म के पथ पर आने वाले साधक के लिए एक विचित्र सी समस्या उत्पन्न होनी आरंभ हो जाती है। जो कुछ भी अब मैं कहने जा रहा हूं उसका उल्लेख किसी ग्रंथ में नहीं है। जो कुछ भी कहा जाएगा वह मेरे व्यक्तिगत अनुभव से ही कहा जाएगा। किसी ग्रंथ का उल्लेख नहीं। कल के सत्संग के विषय को हम कुछ दिन आगे अब निरंतर आगे बढ़ाएंगे

    Read More

  • आज! त्रिगुणात्मक प्रकृति पर कुछ कहने का मन बना है।
    07/10/2020

    आज! त्रिगुणात्मक प्रकृति पर कुछ कहने का मन बना है।

    ज! त्रिगुणात्मक प्रकृति पर कुछ कहने का मन बना है। कल किसी साधक ने मुझे मेल के द्वारा पूछा था की जब आप कभी आप किसी इसी ऋषि के  नाम का स्मरण करते हैं अथवा किसी ग्रंथ का नाम का स्मरण करते हैं, तो आप उस समय अपने दोनों कानों को क्यों स्पर्श करते हैं। यह क्या है कोई टोटका है? 

    Read More

  • विवेक चूडामणि सूक्ष्म परिचय
    06/10/2020

    विवेक चूडामणि सूक्ष्म परिचय

    आदि गुरु शंकराचार्य के प्रति हमारी संततियां सदैव ऋणी रहेंगी, वह नहीं रहे होते तो इस राष्ट्र को चार अकाट्य खूंटों में बांधने वाला आज तक कोई नहीं हुआ है। वह नहीं हुए होते तो महाभारत के एक लाख श्लोकों में श्री मद्भगवद गीता जी के 700 श्लोक दबे रह जाते। वह नहीं हुए होते तो वेदान्त की श्रेष्ठतम रचनाएँ हमे उपलब्ध नहीं हुई होती। 

    Read More

  • विविक्तदेश  सेवित्वं एक अकेला कोना और एक तुम तो बात बन जाए
    05/10/2020

    विविक्तदेश सेवित्वं एक अकेला कोना और एक तुम तो बात बन जाए

    श्रीमद्भागवत गीता में एक उल्लेख आया है विविक्तदेशे सेवित्वम । यह उल्लेख श्रीमद भगवद गीता में अन्तर्मुखी होने हेतु निर्देशित किया गया है। पहला शब्द है विविक्त , दूसरा शब्द है देश और  सेवित्वम।  विविक्त देश, इस  शब्द का मर्म  आदि गुरु  शंकराचार्य जी ने  बताया, अपने आप को ऐसे क्षेत्र में उपस्थित करो जहां तुम अकेले हो।

    Read More

  • सात्विक सेवा भीतर की क्षमताओं के द्वार खोलती है
    04/10/2020

    सात्विक सेवा भीतर की क्षमताओं के द्वार खोलती है

    सात्विक सेवक का उल्लेख अध्यात्म जगत में बहुत बड़े स्तर पर आया है। स्वाध्याय सत्संग और सेवा, उपासना साधना और आराधना। आराधना, सेवा उपासना किसकी? उपासना उस ईश्वर की, अपने भीतर अवस्थित उस ईश्वर के तत्व की। और साधना अपनी क्षमताओं के विकास की।

    Read More

  • अद्भुत स्थिरता शांति की अनुभूति आत्मा की निकटता का परिणाम
    03/10/2020

    अद्भुत स्थिरता शांति की अनुभूति आत्मा की निकटता का परिणाम

    ध्यान साधना में जब मनुष्य भीतर की सजगता जब अनुभव करने उतरे तो प्राथमिक परिचय एक अद्भुत स्थिरता और शांति से होता है। आनंद तो उसकी फलअश्रुति है पर प्रथम परिचय एक अद्भुत स्थिरता और शांति से ही होता है।  साधकों को आज के इस ध्यान में उसका बोध पूर्ण अथवा आंशिक रूप में आपने ध्यान के उत्तरार्ध में यह अनुभव अवश्य किया होगा। 

    Read More

  • साधना में सभी को ‘ म ’ अक्षर पर अधिक केंद्रित क्यों नहीं होना चाहिए।
    02/10/2020

    साधना में सभी को ‘ म ’ अक्षर पर अधिक केंद्रित क्यों नहीं होना चाहिए।

    ओम के गुंजन में ‘ म ’ अक्षर का गुंजन सामान्य साधना में करने के लिए वर्जित किया जाता है। इसका मुख्य कारण है कि ‘ म ’  अक्षर से ज्ञानियों के मतानुसार और थोड़े बहुत अनुभव से भी मैं कह सकता हूं वैराग्य की वृद्धि, अनासक्ति की वृत्ति बहुत गति से विकसित होना आरंभ हो जाती है।  

    Read More

  • ईश्वर विश्वास क्यों फलित नहीं होता ?
    01/10/2020

    ईश्वर विश्वास क्यों फलित नहीं होता ?

    ईश्वर पर विश्वास और उसकी सत्ता पर आश्रित होने के लिए अध्यात्म जगत में बहुत कहा जाता है, पर चाह कर भी व्यक्ति आश्रित हो नहीं पाता है। जीवन की विकट परिस्थितियों को लेकर अनसुलझे प्रश्नों को लेकर मनुष्य में भय - आशंका और चिंता बनी ही रहती है।  मैं यहां पर क्रोध के विषय पर कुछ नहीं कहूँगा,

    Read More

  • दुर्लभ और दुर्गम सत्य 24 सूक्ष्म तरंगों का - गायत्री मन्त्र
    30/09/2020

    दुर्लभ और दुर्गम सत्य 24 सूक्ष्म तरंगों का - गायत्री मन्त्र

    24 अक्षर 24 तरंगें और 24 ही सृष्टि के निर्माण एवं संचालन में जुटी शक्तियां। संख्या का महत्व चेतना विज्ञान के महान वैज्ञानिकों के अनुभूत शोध का ही परिणाम है। हम भले ही अपनी सुविधा की दृष्टि से कह डालें की यह महान खोज हमारा प्राचीन भारतीय विज्ञान है, 

    Read More

  • आवश्यक है बुद्धि जो विश्लेषण करें निश्चय करें।
    29/09/2020

    आवश्यक है बुद्धि जो विश्लेषण करें निश्चय करें।

    श्रीमद्भगवद्गीता के दो श्लोकों की ओर संकेत करते है जिनका अध्याय 3 के अंत में वसुदेव उल्लेख कर गए। 

    शरीर से सूक्ष्म इंद्रिया हैं, मनुष्य की इंद्रियों से ऊपर सूक्ष्म मन है।  जो अधिक सूक्ष्म होगा वही अधिक शक्तिशाली होगा। जो जितना सूक्ष्म होगा उसमें उतने ही अंशों में अधिक शक्ति होगी। 

    Read More

  • आदि शंकराचार्य जी के शब्द “आत्म विषय बुद्धि”
    28/09/2020

    आदि शंकराचार्य जी के शब्द “आत्म विषय बुद्धि”

    आज का विषय है  “आत्म विषय बुद्धि”, आदि गुरु शंकराचार्य जी ने इस शब्द को हमारी आने वाली अनेक सन्ततियों को इस विशेष शब्द का मर्म समझाते हुए श्रीमद्भगवद्गीता के संदर्भ में बताया है।

    Read More

  • “अलख निरंजन”, गुरु गोरक्षनाथ जी के यह शब्द हैं
    27/09/2020

    “अलख निरंजन”, गुरु गोरक्षनाथ जी के यह शब्द हैं

    “अलख निरंजन”, गुरु गोरक्षनाथ जी के यह शब्द हैं “अलख निरंजन”। यूँ तो लक्ष्य शब्द का अर्थ समझते हो ना, अर्थात उद्देश्य और उसीमें आप ‘अ ‘ जोड़ दो तो अलक्ष्य, अ, ल आधा क्ष  और य =  अलक्ष्य है।  यही शब्द  जो अपभ्रंष हो गया Distort  हो गया और अलक्ष्य बन गया अलख।

    Read More

  • गायत्री के जप सहित मौन का तप
    26/09/2020

    गायत्री के जप सहित मौन का तप

    गायत्री के अनुष्ठान और मौन का भी एक गहरा संबंध है पर उससे पूर्व यह समझना आवश्यक है कि मौन क्या होता है?  क्या मौन केवल मुख की चुप्पी  है.

    नहीं साधक, चुप रहना मौन का बाहरी स्वरूप है जबकि वस्तुतः मौन भीतर की संपूर्ण निष्क्रियता है

    Read More

  • भाव का बीज बहुत बड़े कार्य कर सकता है।
    26/09/2020

    भाव का बीज बहुत बड़े कार्य कर सकता है।

    आध्यात्मिक साधना के प्रकाश में मनुष्य में भाव का बीज बहुत बड़े कार्य कर सकता है। भाव का बीज जप और तप की शक्ति को दिशा देने का कार्य कर सकता है।

    Read More

  • आत्म विश्वास तब तब विकसित होता जब जब मनुष्य संकल्प के बूते अपने पर विजय प्राप्त करता।
    26/09/2020

    आत्म विश्वास तब तब विकसित होता जब जब मनुष्य संकल्प के बूते अपने पर विजय प्राप्त करता।

    बाहरी जीवन जीते हुए बड़ी शीघ्रता से मानवी बुद्धि तत्काल निष्कर्षों पर पहुंचना चाहती है, कुछ ही मिनटों अथवा दिनों में परिणाम दिखाई नहीं पड़ते तो बड़े से बड़े सत्य पर सन्देह करने लगती है अन्यथा अपने आप पर ही सन्देह उत्पन्न करने लगता है।

    Read More

  • साधना की शक्ति अकाट्य है, साधक का समर्पण आवश्यक है।
    26/09/2020

    साधना की शक्ति अकाट्य है, साधक का समर्पण आवश्यक है।

    बाहरी जीवन जीते हुए बड़ी शीघ्रता से मानवी बुद्धि तत्काल निष्कर्षों पर पहुंचना चाहती है, कुछ ही मिनटों अथवा दिनों में परिणाम दिखाई नहीं पड़ते तो बड़े से बड़े सत्य पर सन्देह करने लगती है अन्यथा अपने आप पर ही सन्देह उत्पन्न करने लगता है।

    Read More

  • What are the Deliverables of Upanishadic knowledge to my Life?
    26/09/2020

    What are the Deliverables of Upanishadic knowledge to my Life?

    A desire is the strongest lead for a human to dare and accomplish it's as an objective... And a desire at the same time is the greatest enemy of a human when its unmindful flights drain the most purposeful resource of human energies. Seeking to evolve and unravel the true self is a desire cauterized from all negativism, whereas seeking for possessiveness upon the lives of others is a desire stuffed with egoistic demeanor. The former seeking opens the doors of blissfulness whereas the former leads to narrow lanes of dark disharmony. The former brings freedom and potential, whereas the latter accrues to unbearable baggage and ailments.

    Read More

  • आपसी संवाद के दो स्तर सबसे महत्वपूर्ण हैं।
    26/09/2020

    आपसी संवाद के दो स्तर सबसे महत्वपूर्ण हैं।

    आपसी संवाद के दो स्तर सबसे महत्वपूर्ण होते हैं। एक को तो हम भली प्रकार से पहचानते हैं अर्थात जो कानों को सुनाई देते हुए शब्द हैं पर दूसरे संवाद के स्तर के विषय में हम में से अधिकांश अनजान हैं। और यही संवाद का वह अनजाना और सूक्ष्म स्तर है जो की अत्यंत महत्वपूर्ण होता है। शब्दों की बातचीत तो थोड़ी ही देर में हो कर समाप्त हो लेती है परन्तु सूक्ष्म स्तर पर हम सभी अपने विचारों में उस बातचीत का बोझ न केवल ढोते चले जाते हैं बल्कि उसे सोच सोच कर और अधिक बोझिल कर डालते हैं।

    Read More

  • बेकार के विचारों को दिमाग किराये पर
    26/09/2020

    बेकार के विचारों को दिमाग किराये पर

    शायद सच ही है की अधिकांश लोगों को यह ज्ञात ही नहीं होता की दिमाग में आने वाला प्रत्येक विचार -ख्याल ऊर्जा के खर्च से ही उत्पन्न होता है और ऊर्जा के लगातार खर्च से ही हमारे मस्तिष्क में चलता है। असली बात तो यह है की इस प्रकार की बातों को बहुत कम बताया जाता है और जब कोई मनस्वी बता भी रहा होता है तो हम उन बातों को कान ही नहीं देते।

    Read More

  • तुम सोच भी नहीं पाओगे कि मन की एकाग्रता से उत्पन्न शक्ति क्या कुछ कर सकती है।
    26/09/2020

    तुम सोच भी नहीं पाओगे कि मन की एकाग्रता से उत्पन्न शक्ति क्या कुछ कर सकती है।

    अपने भीतर की शक्तियों से जन्मे चमत्कार वैसे तो हमारे आस पास भी होते ही रहते हैं, पर ऐसा सम्भव ही नहीं हो पाता की समझ भी पाएं की यह हुआ क्या है। यह वाक्य कोई पहेली नहीं है, यह वाक्य तुम्हारे आस पास अत्याधिक सफल लोगो के बारे में है जिन्हें तुम अपनी ही तरह मानते आए हो पर अचानक जीवन के सफर में बहुत आगे निकल गए। मुझे पता है की ऐसे लोगो की बात आते ही तुम कहने लगते हो "यार वो तो खास ही किस्मत लिखा के आया है भाई"... यह सच है की वह आगे निकल गए कुछ लोग तुमसे कोई ज्यादा अक्लमंद यां कहें की कुछ अलग ही भाग्य लेकर पैदा हुए हों। नहीं यह बात नहीं है, ज्योतिषयों ने तो धीरू भाई अम्बानी की कुंडली में भी कुछ विशेष नहीं देखा था।

    Read More

  • विचारों में शक्ति भरनी पड़ती है
    26/09/2020

    विचारों में शक्ति भरनी पड़ती है

    सफलता बहुत हद तक तुम्हारी मनःस्थिति पर भी निर्भर करती है। हाँ भाई हाँ यह सत्य है की योगयता, अवसर और साधनों के अभाव में अच्छी खासी योजनाएँ धरी की धरी रह जाती हैं। पर इससे भी बड़ा एक सत्य यह है की उपयुक्त मनःस्थिति के अभाव में योग्यता, अवसर और साधन भी बेकार सिद्ध हो जाते हैं। एक कदम आगे चल कर अगर अनुभव के आधार से कहें तो हमने बहुत सारे अत्यन्त सफलता प्राप्त लोग ऐसे देखें हैं जिनके स्वयं के पास न तो किसी उद्योग की विशेष जानकारी थी और न ही कोई अवसर उनके दरवाजे पर प्रतीक्षा में था - साथ ही उनके पास साधन एकत्रित करना भी एक बड़ी चुनौती थी। फिर भी वह सफलता की सीढ़ियां चढ़ते गए और महान बने।

    Read More

  • अभाव, अज्ञान और अशक्ति में कभी किसी को खुश देखा है
    26/09/2020

    अभाव, अज्ञान और अशक्ति में कभी किसी को खुश देखा है

    कभी किसी को अभाव में खुश देखा है, कभी किसी को अशक्ति में प्रसन्न देखा है, और क्या कभी किसी को अज्ञानता में शान्त रहते हुए देखा है? नहीं देखा होगा।

    Read More